ICU Full Form in Hindi – आईसीयू की फुल फॉर्म क्या है?

ICU Full Form in Hindi – आईसीयू की फुल फॉर्म क्या है?

ICU: Intensive Care Unit(गहन चिकित्सा विभाग)

 ICU related questions: ICU Full Form in Hindi, ICU Full Form, आईसीयू की फुल फॉर्म इन हिंदी, दोस्तों क्या आपको पता है ICU की full form क्या है, ICU का क्या मतलब होता है, ICU के क्या कार्य होते है, और ICU की विशेषताएँ क्या है.

अगर आपको in सभी सवालों का answer नहीं पता है तो आपको निराश होने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि आज हम इस post में आपको ICU की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है तो फ्रेंड्स ICU Full Form in Hindi में  जानने के लिए इस post को लास्ट तक पढ़े.

दोस्तों आपने कई बार हॉस्पिटल में कई जगह पर icu लिखा हुआ देखा होगा और उस  वक़्त आप सोच में पड़  होंगे की ये की आखिर ये ICU  क्या होता हैं ,ICU की FULL FORM क्या हैं और इसका मतलब क्या होता हैं.तो हम आपको आज ICU के बारे में  जानकारी ,हम आपको इस पोस्ट में पूरी जानकारी बताएंगे  की ये क्या होता हैं.

आईसीयू फुल फॉर्म

ICU  hospital के एक विशेष department को कहा जाता हैं. ICU की फुल फॉर्म “intensive care unit” होती है, हिंदी भाषा में इसे “गहन चिकित्सा विभाग” कहा जाता है.यह मरीजों के लिए गहन देखभाल और medicines प्रदान करता है.ICU प्रत्येक Hospital में मौजूद रहता है.

Intensive Care Unit(ICU) का काम मरीजों की सबसे गंभीर और भयंकर वाली बीमारियों और चोटों का इलाज करना हैं,यह विभाग मरीज को “Intensive Treatment Medicine” provide कराने का काम कराता है. ICU में उन मरीजों  इलाज किया जाता हैं, जिन्हें हॉस्पिटल में विशेष doctors और nurses द्वारा निरंतर और करीबी निगरानी की आवश्यकता होती है, और यदि आवश्यकता हो तो इमरजेंसी department से सीधे ICU में मरीजों को स्थानांतरित किया जा सकता है.यह ज्यादातर तब किया जाता हैं जब मरीज की स्थिति लगातार बिगड़ जाती है.ICU-FULL-FORM-IN-HINDI

ICU में मौजूद उपकरण

ICU में बहुत sensitive और well developed मशीनें होती हैं जो बीमार व्यक्ति के इलाज के लिए प्रयोग की जाती हैं.

आइये जानते हैं कि वो मशीनें कौन कौन सी होती हैं-

Ventilators– जब व्यक्ति की हालत नाजुक होती है और उसे सांस ना आ रही हो तो उसे वेंटिलेटर पर ले जाया जाता है.

External Pacemakers– जब रोगी का हृदय काम करना बंद कर देता है तो पेसमेकर की मदद से रोगी के हृदय की धड़कने तेज की जाती हैं ताकि हृदय वापस नार्मल स्थिति में आ सके.

Feeding Tubes– जब रोगी खाना खाने लायक नहीं होता तो यह मशीन शरीर में भोजन पहुँचाने और निकालने के काम आती है

Suction Tubes– ये वह tube होती है जिसे डॉक्टर सर्जरी के दौरान उपयोग में लाते हैं|

Pulse Oximeter– यह ऑक्सीमीटर तब use किया जाता है जब व्यक्ति के खून में ऑक्सीजन की मात्रा काफी कम हो तो डॉक्टर इस यंत्र की मदद से रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा नापते हैं.

PATIENT को ICU में रखा क्यों जाता है ?

इसके बारे में हम पहले बात कर चुके हैं कि ICU में सिर्फ उन्हीं व्यक्तियों को रखा जाता है या तो जिनकी हालत बहुत ज्यादा नाजुक होती है और या तो जिनको बचा पाना काफी मुश्किल लग रहा होता है. Doctors की टीम उन्हें अपने अच्छे रख-रखाव में रखने की कोशिश करती है, और इसीलिए Hospital में 1 वार्ड होता है, जिसका नाम होता है ICU और इस वार्ड में बहुत ही अच्छी तरीके से patient की care की जाती है जिनमे patient को सारी सुविधाएं दी जाती है, जिससे उसकी health में  जल्द से जल्द  सुधार आ सके. तो आइए जानते हैं किस किस समय पर किसी व्यक्ति को ICU की जरूरत पड़ती है.

और भी ऐसे कारण जिनकी वजह से एक मरीज को ICU में रखा जाता हैं जो की निचे बताए गये है-

  • अगर किसी व्यक्ति का बहुत ज्यादा बढ़ा accident हो जाता है, जिसमें कि उसका blood बहुत ज्यादा निकल जाता है या बह जाता है और उसकी injury बहुत ज्यादा खतरनाक है, तो उसे ICU में रखा जाता है.
  • किसी व्यक्ति को heart attack आ जाने पर भी उसे ICU में रखा जाता है, और उसकी अच्छे से देखभाल की जाती है.
  • अगर किसी व्यक्ति की kidney fail हो जाए या ऐसी कोई गंभीर समस्या हो जाए जिसमें उसका महत्वपूर्ण body parts काम ना करें तो भी उसे कई बार ICU में रखने की जरूरत पड़ती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here