KYC क्या हैं? KYC क्यों जरूरी हैं? पूरी जानकारी हिंदी में|

KYC क्या हैं? KYC क्यों जरूरी हैं? पूरी जानकारी हिंदी में|

Helo दोस्तों आपका स्वागत हैं study sector में,तो दोस्तों आज हम बहुत ही अच्छे टॉपिक के बारे में जानेगे जिसका नाम है “kyc kya hai” और हमारे लिए KYC Kyu Zaruri Hai

अगर आपके पास कोई bank account होगा या paytm या आप किसी तरह का online payment करते हैं तो आप KYC के बारे में अच्छे से सुने होंगे और फिर आपके मन ये कुछ सवाल हैं जो जरुर आते होंगे की आखिर ये KYC kya hai.

  • KYC kya hota hai (What is KYC in English?)
  • KYC क्यों जरूरी होता है, kyc इतना important क्यों होता है

इसलिए अब हम आपको इस पोस्ट में इन सभी सवालों के जवाब देंगे लेकिन शुरुआत करने से पहले आपसे अनुरोध है की इस पोस्ट को  लास्टतक जरुर पढ़े जिसके की इसके बारे में आपको पूरी जानकरी हो सके.

KYC Kya Hai ? इसे भरना जरुरी क्यों होता है ?

KYC एक प्रकार का फॉर्म (Form) होता है जिसका फुल फॉर्म होता है Know Your Customer, bank में खाता (account) खुलवाना हो, फिक्स्ड डिपाजिट (Fixed Deposit) करना हो, म्यूच्यूअल फण्ड ख़रीदना हो या फिर बीमा लेना हो, सभी में आप से KYC फॉर्म भरवाया जाता है.

साधारण भाषा में हम कहेंगे की ये एक ऐसा तरीका होता हैं जिससे कोई भी कंपनी या bank अपने ग्राहक को जानता हैं या उन्हें जानने की कोशिश करता हैं.ये एक तरह का form होता हैं जिसे कस्टमर को भरना होता हैं, जहाँ आप की identity और आपका address, Aadhaar,पेन कार्ड number,प्रमाण पत्र  के द्वारा electronically verify किया जाता हैं.kyc-kya-h-kyo-jruri-hai

हम आपको इसे और आसन तरीके से समझाने की कोशिश करते हैं हम आपको एक उदहारण से समझाते हैं –आपको याद होगा की कुछ समझ पहले जब सभी काम digital नही हुआ करते तो आपको याद होगा की जब आप एक मोबाइल sim खरीदने जाते थे तो आपको अपनी पहचान बताने के लिए आधार कार्ड और भी न जाने क्या क्या कार्ड अपनी identy बताने के लिए देना पडता था.

पर अब kyc के माध्यम से आपको ऐसा कुछ भी नही करना पडता और आपका काम आसानी से हो जाता हैं और KYC डिजिटल तरीके से अपने कस्टमर की पहचान करती है. चाहे फिर आपको एक मोबाइल sim ही क्यों न लेनी हो या फिर आपको किसी bank में खाता ही क्यों न खुलवाना हो. kyc एक ऐसा तरीका हैं जिसे एक बार अगर अपने खाते से जुडवा लेते हैं तो आपको सभी जगह अपनी id प्रूफ लेकर जाने की जरूरत नही पड़ती हैं.

kyc के माध्यम से अगर आप किसी भी sim का गलत उपयोग करते हैं या किसी bank खाते का गलत उपयोग करते हैं तो इसके माध्यम से आपकी पहचान आसानी से की जा सकती हैं. इससे पता चल जाता हैं की froud किसने किया हैं और कहाँ से किया हैं.

kyc एक ऐसा तरीका है जिससे व्यक्ति की पूरी जानकरी bank या कम्पनी के पास रहती हैं. और ये किसी भी प्रकार के धोखे से बचाती हैं. KYC Form भरवाने का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि जाने या अनजाने में आपराधिक तत्व बैंकिंग प्रणाली (Banking System) का अनुचित प्रयोग अपनी गतिविधियों के लिए ना करें Bank भी अपने Customers को KYC द्वारा बेहतर तरीके से समझ सकते हैं उनके वित्तीय लेन-देन (Financial Transaction) को समझ उनकी जरूरतों को अच्छे से पूरा कर सकते हैं.

KYC के लिए ज़रूरी काग़ज़ात

kyc करने के लिए कुछ ऐसे document की जरूरत पड़ती हैं

  1. आधार कार्ड
  2. पैन कार्ड
  3. पासपोर्ट
  4. voter id
  5. पहचान पत्र
  6. ड्राइविंग लाइसेंस (Driving licence)
  7. रासन कार्ड (rashan card)

इनमे से किसी भी एक डॉक्यूमेंट और एक पासपोर्ट photo लगा कर आप अपनी kyc कर सकते हैं.

KYC क्यों जरूरी हैं

kyc एक बहुत महत्वपूर्ण document होता हैं. जब भी कोई संस्था अपने कस्टमर को कोई सेवा देती हैं, उनकी पहचान करने के लिए यह kyc कराती हैं.

bank में ऐसे बहुत से मामले  होते हैं जो हमारे सामने आये हैं  जिसमें धोखाघड़ी और जालसाजी के द्वारा कई लोगों के bank account से पैसे निकाल लिए गए. जिससे बैंको को नुकसान भी हुआ और अपनी सुरक्षा को लेकर ग्राहकों को संदेह भी हुआ.

kyc एक ऐसी तकनीक हैं जिससे आवेदक की पहचान हो जाती हैं और वित्तिय संस्थाएँ इस बात से संतुष्ट हो जाती हैं कि आवेदक द्वारा जो भी document दिये गये हैं, वे सही हैं और भारत सरकार द्वारा प्रमाणित है.

kyc के द्वारा धोखे की सम्भावना कम हो जाती हैं. kyc के द्वारा जालसाजी धोखाधड़ी को भी रोका जा सकता हैं.

KYC कहाँ-कहाँ चाहिए होता हैं

बैंक में खाता खोलने के अलावा लोन लेने, लॉकर लेने, क्रेडिट कार्ड बनवाने, म्यूच्यूअल फण्ड खरीदने, तथा बीमा आदि लेने पर KYC फॉर्म भरने की आवश्यकता पड़ सकती है. बैंक में लेनदेन के लिए और खाता खुलवाने के लिए kyc form  भरना अनिवार्य हैं. यदि आप यह फॉर्म नहीं भरते हैं , तो बैंक आपको खाता खोलने से मना भी कर सकता हैं. और कर भी देता हैं. इसलिए आपको kyc करना ही होता हैं .

आपको हमारी आज की पोस्ट कैसी लगी आज हमने आपको बताया की KYC Kya Hai, kyc कहाँ कहाँ चाहिए होता हैं, kyc के लिए ज़रूरी काग़ज़ात (document)उम्मीद है आपको समझ आया होगा.

मुझे पूरी आशा है की आपके कई सवालों के जवाब आज आपको यहाँ मिले होंगे, अगर आपके मन में और भी कुछ सवाल है या हमारे द्वारा यहाँ पर किसी प्रकार की कोई जानकरी बताना रह गया हो तो वो भी आप Comment Box में Comment करके हमसे पूछ सकते है,और हमे बता सकते हैं , हम आपकी सहायता करने की पूरी कोशिश करेंगे.

अगर आपको हमारी आज की पोस्ट पसंद आई है तो आप Comment Box में Comment करके भी हमे बता सकते है और इसी प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट studysector की Notification को Subscribe भी कर सकते है जिससे आपको हमारी नयी पोस्ट की जानकारी मिल सके. और हाँ इसे आप अपने दोस्तों को शेयर करना न भूले जिसे की उनको भी ये जानकरी मिल सके की की KYC Kya Hai.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here